Personal Finance Tax

Income Tax Return-ITR: अब खुद फाइल करें इनकम टैक्स रिटर्न, जानें कैसे

इनकम टैक्स रिटर्न (Income Tax Return) यानि ITR फाइल करना अब बेहद ही आसान हो गया है। खासकर वेतनभोगी कर्मचारियों के लिए तो रिटर्न फाइल करना और भी आसान है। आमतौर पर इंडिविजुअल्स के लिए इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करने की आखिरी तारीख 31 जुलाई होती है, लेकिन इसे कई बार आगे भी बढ़ाया जाता है। खैर हम फोकस इस बात पर करेंगे इनकम टैक्स रिटर्न घर बैठे खुद से कैसे भरें ताकि सारी जानकारी अपने नॉलेज में हो और पैसे भी खर्च नहीं करना पड़े।

ऑनलाइन इनकम टैक्स रिटर्न भरने के लिए सबसे पहले आपको incometaxindiaefiling.gov.in पर जाना होगा। इस पेज पर आप लॉग-इन सेक्शन पर क्लिक करेंगे तो एक नया विंडो खुल जाएगा। अगर आपका लॉग-इन पहले नहीं बना हुआ है तो पहले पैन नंबर, ई-मेल और मोबाइल नंबर जैसी जानकारी भरकर लॉग-इन बना सकते हैं। अगर आपका लॉग-इन पहले से बना हुआ है तो USER ID में अपना पैन नंबर डालें, फिर पासवर्ड डालकर लॉग-इन करें।

लॉग-इन करने के बाद Filing of Income Tax Return पर क्लिक करें।

उसके बाद वाले पेज पर एसेसमेंट ईयर का चुनाव करें। इनकम वाले साल के बाद का ईयर एसेसमेंट ईयर (कर निर्धारण साल) होता है। इसके बाद आप ITR फॉर्म का चुनाव करें। सैलरीड क्लास के लिए आमतौर पर ITR1 फॉर्म भरना होता है। फाइलिंग टाइम ओरिजिनल/रिवाइज्ड रखें। फिर सबमिशन मोड में प्रिपेयर एंड सबमिट ऑनलाइन का चुनाव करें। फिर नीचे में आपको अपना बैंक खाते की डिटेल्स नजर आ सकती है, अगर आप पूरी जानकारी बैंक खाते के जरिए देना चाहते हैं तो उस पर क्लिक कर आप अगले पेज पर जा सकते हैं।

उसके बाद आप पहले पेज पर अपनी पर्सनल जानकारी दें, फिर फॉर्म-16 की मदद से दूसरे पेज पर अपनी आय की पूरी जानकारी भरें। फॉर्म-16 की दो कॉपी दी जाती है। एक कॉपी में आपके इनकम और इंवेस्टमेंट की पूरी गणना रहती है, दूसरी कॉपी में आपकी इनकम और उस इनकम पर की गई टैक्स की कटौती की पूरी जानकारी रहती है। एक बार इनकम और फिर इंवेस्टमेंट 80C में और मेडिक्लेम खर्च 80D जैसे विकल्पों में दिखाने के बाद आपे सेव करके आगे के पेज में जा सकते हैं। फिर आगे आपकी आय और टैक्स कटौती की गणना सिस्टम फॉर्म-16 के आधार पर खुद-ब-खुद कर लेगा। फिर आखिर में बैंक डिटेल्स और अपनी व्यक्तिगत जानकारी चेक करने के बाद आप इसे सबमिट कर सकते हैं।

लेकिन रिटर्न फाइल करने के साथ इसे ई-वेरिफाई करना नहीं भूलें। ई-वेरिफाई आप अपने आधार OTP के जरिए या इंटरनेट बैंकिंग के जरिए कर सकते हैं। आखिर में My Account सेक्शन में जाकर ई-वेरिफाई और अपने रिटर्न फाइल की पूरी जानकारी के साथ पिछले कई सालों की टैक्स फाइलिंग आप हासिल कर सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *